IANS

कांग्रेस ने देश को अंधकार में धकेला : मोदी

नई दिल्ली, 12 जनवरी (आईएएनएस)| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अगले आम चुनाव में अपनी वापसी की मजबूत दावेदारी पेश करते हुए शनिवार को कहा कि कांग्रेस ने देश को अंधकार में धकेला है। उन्होंने कांग्रेस पर बैंकों की माली हालत खराब करने और अयोध्या विवाद का जल्द न्यायिक समाधान आने में रोड़े अटकाने का आरोप लगाया। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद के समापन पर उन्होंने लोगों को अपने प्रधान सेवक के चयन में सावधान रहने को कहा, जिन्होंने 18 घंटे अथक परिश्रम किया और कभी छुट्टी नहीं ली।

अपने समापन भाषण में भाजपा के दोबारा सत्ता में आने की कोशिश को दमदार तरीके से पेश करते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने ऐसी सरकार की अगुवाई की है, जिसका रिकॉर्ड बेदाग है और जिसने ईमानदारी से सभी वर्गो के लिए काम किया है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने निराशा के माहौल को समाप्त कर लोगों में भरोसा पैदा किया, विकास की रफ्तार तेज की और भारत का मान बढ़ाया।

प्रधानमंत्री ने कहा, “यह पहली बार हुआ है कि सरकार पर किसी प्रकार के भ्रष्टाचार का आरोप नहीं है। हमें गर्व है कि हमारा रिकॉर्ड बेदाग है।”

मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर परोक्ष रूप से कई जुबानी हमले किए। प्रधानमंत्री ने कहा, “उन्होंने उनसे मुलाकात की, जो भारत को तोड़ने की बात करते हैं। डोकलाम गतिरोध के दौरान उन्होंने चीनी राजदूत से मुलाकात की और सर्जिकल स्ट्राइक को खून की दलाली कहा।”

उन्होंने कहा, “आंध्रप्रदेश, पश्चिम बंगाल और अब छत्तीसगढ़ की सरकारों ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) पर रोक लगा दी है, लेकिन मैंने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में कभी ऐसा नहीं किया, जबकि कांग्रेस ने जांच एजेंसियों के माध्यम से मुझे परेशान करने का कोई मौका नहीं छोड़ा।”

मोदी ने कहा कि उन्होंने बतौर मुख्यमंत्री नौ घंटे एसआईटी के सवालों के जवाब दिए, क्योंकि उनको कानून, संस्था और सच्चाई में भरोसा था।

उन्होंने कहा, “लेकिन वे अपनी बुरी करतूतों से भयभीत हैं। आपको संस्थानों पर भरोसा है। उनको सीबीआई, सीएजी पर भरोसा नहीं है। क्या हम देश को उनके हवाले कर सकते हैं? हमें संविधान पर भरोसा है, लेकिन उनको सल्तनत पर भरोसा है।”

राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी का नाम लिए बगैर, नेशनल हेराल्ड मामले का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस के प्रथम परिवार के सदस्य जमानत पर हैं और मामला 2012 का है, जब संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की सरकार थी।

उन्होंने कहा कि उनको बार-बार जांच एजेंसियों द्वारा बुलाया गया है, कुल मिलाकर 44 बार और छह महीने में छह बार, लेकिन वे खुद पेश नहीं हुए हैं।

मोदी ने कहा, “हम नामदार हैं, हम कैसे जा सकते हैं और हमसे सवाल कैसे पूछे जा सकते हैं। सच यह है कि उनको सच से समस्या है। वे क्या छिपा रहे हैं। मुझे नहीं मालूम। जमानत पर रह रहे लोग संस्थानों का सम्मान नहीं करते हैं तो वे देश को क्या सम्मान देंगे। उनको राजशाही में विश्वास है और हमें लोकशाही में।”

उन्होंने कहा, “क्या लोग ऐसा सेवक चाहते हैं, जो परिवार के सदस्यों को भड़काए, घर में चोरी करे, परिवार के सदस्यों के बीच तोहफे बांटे और पड़ोसियों से परिवार की बुराई करे, लंबी छुट्टी पर जाए या एक ऐसा सेवक जो रात-दिन काम करे, घर के मालिक से ज्यादा काम करे और हमेशा उनके कल्याण के बारे में सोचे।”

उन्होंने कहा, “आप फैसला करें कि आपको किस प्रकार का प्रधान सेवक चाहिए।”

उन्होंने कांग्रेस पर संस्थानों का अनादर करने का आरोप लगाते हुए कहा, “वे निर्वाचन आयोग, जांच एजेंसियों, सर्वोच्च न्यायालय और विदेश मंत्रालय तक का भी सम्मान नहीं करते हैं।”

अयोध्या में राम मंदिर के मसले पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपनी पार्टी के एक वकील के माध्यम से न्यायिक प्रक्रिया में बाधा डाल रही है।

उन्होंने कहा, “वे भारत के प्रधान न्यायाधीश पर महाभियोग चलाना चाहते थे। इन सब बातों को मत भूलिए। हम आपको बार-बार याद दिलाते रहे हैं कि उन्होंने किस प्रकार विकास के मार्ग में रोड़े अटकाए।”

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे में कथित बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि राजदार (मिशेल) के बारे में मीडिया की रपट से संकेत मिलता है कि हेलीकॉप्टर सौदे में ही गड़बड़ी नहीं है, बल्कि लड़ाकू विमान की खरीद में गड़बड़ी की जा रही थी। उन्होंने कहा, “धीरे-धीरे परतें खुल रही हैं। रक्षा सौदे में बिचौलिए थे।”

उन्होंने कहा कि संप्रग सरकार के 10 साल घोटालों, आरोपों और भ्रष्टाचार में बीते।

मोदी ने कहा कि कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने तीन तलाक विधेयक, शत्रु संपत्ति विधेयक, ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा प्रदान करने वाला विधयेक, नागरिकता संशोधन विधेयक और एनआरसी पर आरक्षण का विरोध किया।

 

Show More

Related Articles

Back to top button
Close